मोदी सरकार का ये कदम ‘काम’ नहीं ‘कारनामा’ हो गया… देश को मिला 9 अरब डॉलर का तोहफा

वाशिंगटन। यूआईडीएआई के पूर्व चेयरमैन ने भारत सरकार की आधार कार्ड पहचान देने की नीति की जमकर तारीफ की है। उन्होंने मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि अब सही डिजिटल ढांचा विकसित हो रहा है। डेटा अर्थव्यवस्था की दुनिया में सबसे महत्वपूर्ण होता है।

जैसे पहचान प्रमाणन, कठोर भुगतान, कागज रहित लेनदेन ये सभी नए डिजिटल अर्थव्यवस्था के महत्वपूर्ण स्तर हैं। यही भारत ने भी किया है। पूरे विश्व में भारत अकेला ऐसा देश है, जहां एक अरब लोग इस बुनियादी ढांचे का इस्तेमाल करके अपने मोबाइल फोन से कागज रहित, कैशलेस लेन-देन कर सकता है।

आधार कार्ड

आधार कार्ड योजना भारत का वर्तमान नहीं भविष्य  

-आधार कार्ड योजना से लाभार्थी सूची में धोखाधड़ी खत्म करने में मदद मिलती है। इससे सरकारी खजाने में 9 अरब डॉलर की बचत हुई है। आधार के सूत्रधार नंदन नीलेकणि ने यह बात कही। आधार कार्ड योजना से एक अरब से ज्यादा लोग जुड़े हैं।

-देश की दूसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर सेवा प्रदाता कंपनी इंफोसिस के गैर-कार्यकारी चेयरमैन नंदन नीलेकणि ने कहा कि इस प्रणाली को पूर्ववर्ती संप्रग सरकार ने उत्साहपूर्वक शुरू किया था। बाद में नरेंद्र मोदी सरकार ने इसका समर्थन किया।

-आधार प्रणाली पर अब एक अरब से ज्यादा लोग पंजीकृत हैं। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक की सालाना बैठक से इतर एक कार्यक्रम में नीलेकणि ने कहा कि आधार में अनूठी संख्या है, जिसकी वजह से लाभार्थियों और कर्मचारी सूची से नकली लाभार्थियों को खत्म किया गया है।

-इससे सरकार को 9 अरब डॉलर की बचत हुई है। नकदी हस्तांतरण प्रणाली में सरकार ने इलेक्ट्रॉनिक रूप से 12 अरब डॉलर बैंक खातों में हस्तांतरित किए हैं। उन्होंने कहा कि हमारे देश में ऐसे 50 करोड़ लोग हैं जिन्होंने अपनी पहचान को सीधे बैंक खातों से जोड़ा है।

Also Read: वो संपन्न देश… जहां सोने की खान से ज्यादा, नालों में मिलता है GOLD

Also Read: ये ‘पोता’ आज दिलफेंक स्टार है… पहचानिए और इस तस्वीर के सभी चेहरों के नाम बताइए

Loading...
loading...



One thought on “मोदी सरकार का ये कदम ‘काम’ नहीं ‘कारनामा’ हो गया… देश को मिला 9 अरब डॉलर का तोहफा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *