बिना बिजली और एसी के ठंडा करें घर, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी ने खोजी बेहद सरल तकनीक

बेंगलुरू। मकान को एयर कंडीशनर और बिजली के बिना ठंडा बनाए रखना बेहद मुश्किल काम है। ऐसा करना या सोंचना ही हमें उलझन में डाल देगा। लेकिन अमेरिका के स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का कहना है कि अब ऐसा हो सकता है। शोधकर्ताओं ने एक ऐसा रेडिएटिव स्काई कूलिंग की खोज की है, जो इसे मुमकिन कर देगा।

यह तकनीक जिसे कूलिंग टूल बताया जा रहा है। यह एक नई तरह की कोटिंग (परत) सामग्री से विकसित की गई है। शोध रिपोर्ट के प्रमुख सह-लेखक यानी मुंबई में जन्मे आस्वथ रमन ने बताया, “रेडिएटिव स्काई कूलिंग हमारे वातावरण की प्राकृतिक संपत्ति का लाभ उठाती है।

ठंडा

यदि आप गर्मी को अवरक्त विकिरण के रूप में किसी ठंडी चीज में डाल सकते हैं, जैसे कि बाहरी अंतरिक्ष तो आप बिजली के बिना किसी भी एक इमारत को ठंडा कर सकते हैं। इसके बाद यह पूरे परिवेश में वायु तापमान को शांत करता है और गैर-वाष्पीकरणीय रास्ता प्रदान करता है।”

अत्यंत पतली बहुस्तरित सामग्री से हुआ संभव

आविष्कार को एक अत्यंत पतली बहुस्तरित सामग्री से बनाया गया है। साथ ही इसको विकसित करने का श्रेय रमन और सह-कार्यकर्ता एली गोल्डस्टीन और शानुई फैन को जाता है। वर्ष 2014 में इसका पहला परीक्षण किया गया था। यह सामग्री, सिलिकॉन डाइऑक्साइड की सात परतों और सिल्वर की पतली परत के शीर्ष पर हैफनियम ऑक्साइड से बना है। यह एक ही समय में दो चीजें करती हैं।

यह ‘रेडिएटर और एक उत्कृष्ट दर्पण’ के रूप में कार्य करती है और भवन को कम एयर कंडीशनिंग की स्थिति में अधिक ठंडा करती है। सामग्री की आंतरिक संरचना एक आवृत्ति पर अवरक्त किरणों को विकीर्ण करने के लिए तैयार की जाती है, जिससे उन्हें इमारत के पास हवा को गर्म किए बिना अंतरिक्ष में पहुंचा देती है।

Also Read: सीता माता ने इन 4 जातियों को दिया था श्राप, आज कलयुग में ये भुगत रहीं उसका परिणाम

Also Read: भारतीय टीम के वो दिग्गज खिलाड़ी जिनका शादीशुदा औरतों पर आया दिल, जानिए फिर किसने क्या किया?

Loading...
loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *