GOOGLE ने बचाई कानपुर के इस लड़के की ज़िंदगी

बदलते दौर में तकनीक हमारे जीवन मे इस कदर जगह बना चुका है कि इसके बिना ज़िंदगी गुजरने की कल्पना भी शायद हम नहीं कर सकते। तकनीक का इस्तेमाल सहूलियत तो देता ही है, साथ ही किसी बड़ी मुसीबत से भी निकालने मे कारगर है, अब आप सोच रहे होंगे ये कैसे ? तो इसकी कहानी भी हम आपको बताते हैं।

ये कहानी है कानपुर के रहने वाले जय प्रताप सिंह उर्फ मोहित की, जो इंडियन एयर फोर्स के एक वॉरंट ऑफिसर का बेटा है। जय को 11 साल के एक लड़के की हत्या के आरोप में पिछले साल गिरफ्तार किया गया था। जय प्रताप को तो बइज़्ज़त बरी कर दिया गया लेकिन ऐसा कैसे हुआ ये जानना सबसे ज़्यादा दिलचस्प है।

GOOGLE

दरअसल जय को मर्डर केस में सजा हो जाती, अगर उसने GOOGLE का इस्तेमाल न किया होता। अदालत ने गूगल से मिले रेकॉर्ड्स के आधार पर आरोपी को हत्या के आरोप से बरी कर दिया। 20 अगस्त, 2016 को शाम 6.30 बजे 11 साल का एक लड़का रेहान गायब हो गया था।

दो घंटे के बाद उसकी लाश हाथ लगी। जिससे पता चला था कि, उसकी गला काटकर हत्या की गई थी। उस हत्या के आरोप में कानपुर पुलिस ने जय प्रताप को गिरफ्तार किया था।

देखिये गूगल ने कैसे की जय की मदद ?

सरकारी वकील ने जो साक्ष्य कोर्ट में पेश किए थे, उससे पुलिस के दावे मेल नहीं खा रहे थे। इसके अलावा GOOGLE से प्राप्त डेटा से पता चला कि, जिस समय रेहान की हत्या हुई थी, उस समय जय के आईपी अड्रेस का इस्तेमाल हो रहा था।

जिससे साबित होता है कि, वह अपराध के समय घटनास्थल पर मौजूद ही नहीं था। जय ने बताया कि, जिस समय 11 साल के लड़के की हत्या हुई, उस समय वह ऐनिमेशन डिजाइन पर ऑनलाइन काम कर रहा था। जय के पैरंट्स ने अपने बेटा की लोकेशन, ऑनलाइन वर्किंग टाइम और उन वेबसाइट्स की डिटेल्स जुटाईं जिनका उसने विजिट किया था।

उन लोगों ने गूगल से उसकी ऑनलाइन हिस्ट्री निकाली और अपने बेटे के बचाव में उसे कोर्ट में पेश किया। गूगल की रिपोर्ट की मुताबिक, जय का आईपी अड्रेस शाम 4 बजे से रात 11 बजे तक इस्तेमाल हो रहा था। जिस दौरान उसने कई वेबसाइट्स का विजिट किया। पुलिस ने दावा किया था कि, हत्या 6 बजे के करीब हुई।

फिलहाल एडिशनल डिस्ट्रिक्ट ऐंड सेशंस जज रजत सिंह जैन ने जय प्रताप को बरी कर दिया है और फैसले में कहा कि, मामले में पुलिस की भूमिका संदिग्ध है। जज ने डीजीपी को पत्र लिखकर जांच अधिकारी हरि शंकर मिश्रा के खिलाफ कार्रवाई करने की भी मांग की है।

Loading...
loading...



One thought on “GOOGLE ने बचाई कानपुर के इस लड़के की ज़िंदगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *