एम्स में अब तक का सबसे बड़ा ऑपरेशन, 11 घंटे की सर्जरी के बाद अलग किए गए बच्चों के सिर

नई दिल्ली- दिल्ली के एम्स में आज तक का सबसे बड़ा ऑपरेशन चला जिसमें डॉक्टर्स ने सफलता हासिल की है। ओडिशा के सिर से जुड़े ढाई साल के दो बच्चों को 11 घंटे की सर्जरी के बाद अलग कर दिया गया है। सर्जरी सुबह 9 बजे शुरू हुई थी। बच्चियों को 72 घंटे आईसीयू में रखा जाएगा। ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री प्रताप जेना ने भुवनेश्वर में बताया कि दोनों बच्चों की हालत स्थिर है।

सर्जरी के बाद प्लास्टिक सर्जन्स अपने काम में जुट गए हैं। सर्जरी सुबह 9 बजे शुरू हुई और करीब 11 घंटे चली। 30 डॉक्टरों ने भाग लियासर्जरी में एम्स के विभिन्न विभागों-न्यूरो सर्जरी, न्यूरो एनेस्थेशिया और पीडियाट्रिक्स विभागों के 30 डॉक्टरों के दल ने भाग लिया।

22 घंटे चलेगा ऑपरेशन

बताया जा रहा है कि, पूरी प्लास्टिक सर्जरी में 22 घंटे से ज्यादा का वक्त लग सकता है। 14 जुलाई को एम्स लाए दोनों जुड़वां बच्चों को ओडिशा के कंधमाल जिले के मिलिपाडा गांव से एम्स लाया गया था।

28 अगस्त को हुई थी पहली सर्जरी

बता दें कि, 28 अगस्त को पहली सर्जरी हुई थी, जिसमें जापान के विशेषज्ञ डॉक्टर ने भी भाग लिया था। सर्जरी से पहले उनके कई परीक्षण किए गए।

दो फीसदी मिलते हैं ऐसे केस

जुड़वां बच्चों के जन्म का केस प्रत्येक दो लाख में एक होता है। इनमें भी सिर से जुड़े शिशुओं के केस दुर्लभ या मात्र दो फीसदी होते हैं। इस सर्जरी के लिए ओडिशा सरकार ने 1 करोड़ रुपए स्वीकृत किए हैं।

25 फीसदी मामलों सर्जरी संभव

इन बच्चों का पहले कटक के एससीबी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में परीक्षण किया गया था। वहां के न्यूरो साइंसेस सेंटर के प्रमुख एके महापात्रा ने बताया कि इन बच्चों की स्थिति ऐसी है जो 30 लाख में से एक को होती है। ऐसे बच्चों में से 50 फीसदी पैदा होते ही या जन्म के 24 घंटे में मर जाते हैं। सिर्फ 25 फीसदी मामलों में ही सर्जरी संभव होती है। 

Loading...
loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *