थॅार रैगनॉरक मूवी रीव्‍यू: इन सूपरहीरो का मेल बनाता है फिल्‍म को सुपर एंटरटेनिंग

फिल्म–  थॅार रैगनॉरक

रेटिंग– 4.5

सर्टिफिकेट– U/A

अवधि–   2 घंटा 10 मिनट

स्टार कास्ट– क्रिस हेम्सवर्थ, केट ब्लैंचेट, टॉम हिडलस्टन, मार्क रूफैलो, इदरिस अल्बा, एंथनी हॉपकिंस और जेफ गोल्डब्लम

डायरेक्टर–  तायका वैतिति

प्रोड्यूसर– केविन फीज

म्‍यूजिक डायरेक्‍टर- मार्क मदर्सबॉग

थॅार रैगनॉरक

कहानी–  सुपरहीरो थॉर सीरीज की तीसरी फिल्म की कहानी थॉर पर आधारित है। थॉर के अलावा फिलम में कई और सुपरहीरों भी मौजूद हैं। फिल्‍म की शुरुआत में दिखाया गया है कि थॉर (क्रिस हेम्सवर्थ) एक दुश्‍मन से जीतकर अपने घर अस्गार्ड लौटता है। वह देखता है कि उसके भाई लॉकी (टॉम हिडलस्टन) ने पिता ओडिन (एंथनी हॉपकिंस) को धरती पर भेज कर उनका रूप धारण कर लिया है। यह सब चल ही रहा होता है कि इतने में मौत की देवी हेला (केट ब्लैंचेट) आजाद हो जाती है। वह अस्गार्ड को तहस नहस करने की तैयारी में होती है। इन सबके बीच थॉर सकार ग्रह पर फंस जाता है, जहां थॉर का मुकाबला होता है हल्क (मार्क रूफैलो) से होता है। वहीं दूसरी ओर हेला अस्गार्ड में तबाही मचा रही होती है। मुसीबतों का सामना करते हुए थॉक कैसे अपनेघर और अपने लोगों को बचाता है इस बात का पता तो फिल्‍म देखने पर चलेगा।

Also  Read: कमल हासन के एक बयान से गरमाई सियासत, ‘हिंदू आतंकवाद’ पर मचा बवाल

Also Read : कटोरी वैक्स से बिना दर्द थ्रेडिंग हुई आसन, घर पर करें इसे तैयार

एक्टिंग– फिल्‍म की पूरी स्‍टारकास्‍ट ने बेहतरीन परफॉर्मेंस दी है। हमेशा की तरह क्रिस हेम्सवर्थ की एक्‍टिंग जबरदस्‍त है। मार्क रूफैलो ने भी बहुत अच्‍छा काम किया है। पहली बार निगेटिव किरदार अदा कर रही हेला अपने किरदार में बखूबी ढली हुई नजर आई हैं। केट ब्लैंचेट की मौजूदगी फिल्म बेहद प्रभावी बनाती है। डायरेक्टर तायका भी फिल्‍म में एक कॉमेडियन के किरदार में हैं। उनकी मौजूदगी को भी आप नजरअंदाज नहीं कर सकते हैं।

डायरेक्शन– फिल्‍म का डायरेक्‍शन बेहद उम्‍दा है। फिलम की जितनी तारीफ की जाए उउतकनी कम है। कहानी और एक्‍टिंग के मामले में ही नहीं फिल्म हर तौर पर दमदार साबित होती है। कैमरा एंगल, मेकअप, लोकेशन से लेकर तकनीकियों को बहुत अच्‍छा इस्‍तेमाल किया गया है। फिल्‍म की पिछली सिरीज में जो भी कमियां नजर आई थीं ये पार्ट उन सभी कमियों पर मिट्टी डालने का काम करता है। यह एक सुपरएटरटेनिंग फिल्‍म के तौर पर खुद को स्‍थापित करती है।

कमजोर कड़ी- कछ नहीं

मजबूत पक्ष- तकनीकी पक्ष, एक्‍टिंग, डायरेक्‍शन

देखें या नहीं- सुपरएटरटेनिंग फिल्‍म को देखने सिनेमाघर जा सकते हैं।

Loading...
loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *