मोदी के छठ पर्व भाषण के विश्व में चर्चे, बोले- बिहारी समाज ही उगते और डूबते सूर्य की करता है पूजा

नई दिल्ली। देशभर में कई बड़े त्योहार मनाए जाते हैं और सभी का उनके समाज के अनुसार महत्व होता है। ऐसे ही बिहारी समाज के लिए भी छठ पर्व बहुत अधिक मायने रखता है। ये पर्व अभी कुछ ही दिनों पहले खत्म हुआ है। इसके बारे में सभी लोग अच्छी तरह जानते होंगे। लेकिन पीएम मोदी ने इस पर्व का विश्लेषण कुछ अलग ढ़ंग से ही किया है।

वैसे तो आप सभी जानते हैं कि ये पर्व सभी माताएं अपने बच्चों की लम्बी उम्र के लिए रखती हैं। जिसमें वे 36 घंटे का उपवास रखकर सूर्य भगवान से बेटों की लम्बी उम्र की कामना करती हैं। लेकिन इस पर्व को विस्तार से आप फिर भी नहीं समझ पाते हैं। जिसे पीएम मोदी ने अपने भाषण में बताकर आसान कर दिया है। आज इस भाषण के पूरे संसार में चर्चे हो रहे हैं।

छठ पर्व

मोदी के भाषण की खास बातें

उगते सूरज को तो सभी प्रणाम करते हैं पर डूबते सूरज और उसके सभी रूपों की पूजा सिर्फ बिहारी समाज ही करता है।

छठ पर्व

जीवन में भी सभी बनते हुए अमीर इंसान के साथी होते हैं, लेकिन जो परेशानी में भी साथ खड़ा रहे वो असली मनुष्य है।

छठ पर्व

बिहारी समाज ही इस दिन सही मायने में संसार को स्वच्छता का सही अर्थ समझाता है।

छठ पर्व से गुजरातियों का क्या है संबंध…

छठ पर्व से गुजरातियों का क्या है संबंध…

Posted by Phir Ek Baar Modi Sarkar on Donnerstag, 26. Oktober 2017

Loading...
loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *