दलित महिला से हुई गलती, ठाकुर परिवार की बाल्टी पर लगा हाथ, जान से धोना पड़ा हाथ

बुलंदशहर-  हम समाज में खुद के बदलाव के लाख दावे कर लें लेकिन, कहीं न कहीं वो हीन भावना आज भी लोगों में आ जाती है जो उन्हे इंसानियत से ही अलग कर देता है।  हम बात कर रहे हैं बुलंदशहर की जहां छुआछूत, भेदभाव खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। 

ठाकुर परिवार ने दी ऐसी सजा

जिले के खेतलपुर भंसोली गांव में कूड़ा बीनने वाली महिला सावित्री जब कूड़ा बीन रही थी, तब वहां से गुजर रहे एक रिक्शे से टकराने की वजह से उसने अपना संतुलन खो दिया, जिसके कारण उसने यहां एक ठाकुर परिवार की बाल्टी को छू दिया।

जैसे ही कूड़ा बीनने वाली महिला का हाथ बाल्टी से लगा तो ठाकुर परिवार की एक महिला ने उसे गालियां देनी शुरू कर दी और उसके पेट में कई घूंसे मारे और महिला का सिर दीवार से मार दिया।

8 महीने की गर्भवती थी सावित्री

ठाकुर महिला ने इतना भी ध्यान नहीं दिया कि जिस महिला के पेट में वो घूंसे मार रही है वो 8 महीने की गर्भवती है। सावित्री को इतना मारा गया कि उसकी कोख में पल रहे बच्चे के साथ 6 दिन के अंदर उसकी भी मौत हो गई।

इतनी सी गलती थी सावित्री की

ठाकुर महिला ने सावित्री पर आरोप लगाया कि उसने कूड़ा बीनने वाली महिला ने बाल्टी को छूकर उसका पानी गिरा दिया था, जिसके बाद ठाकुर महिला का बेटा रोहित भी सावित्री की डंडे से पिटाई करने लगा।

सावित्री की पड़ोसी कुसुम देवी जोकि मौके पर मौजूद थी, उसने बताया कि इन लोगों ने उसे बुरी तरह से पीटा था। जिसके चलते छह दिन बाद सावित्री और उनका बच्चा जोकि गर्भ में था मर गया।

सिर में चोट लगने से हुई मौत

पोस्टमार्टम में यह बात सामने आई कि महिला के सिर में गंभीर चोट आने से उसकी मौत हो गई। जबकि पूरी तरह से विकसित बच्चा भी गर्भ में मर गया। जिस दिन यह घटना हुई महिला के साथ उसकी नौ साल की बेटी भी थी, जो दौड़ती हुई दलित बस्ती में आई और मदद की गुहार लगाई। जिसके बाद कुसुम कुछ महिलाओं के साथ वहां पहुंची, जहां लोग सावित्री की पिटाई कर रहे थे।

ALSO READ: घर के मंदिर से निकाल दें ये चीजें, वरना धन की कमी के साथ आएंगी परेशानियां

ALSO READ: फतेहपुर सीकरी में स्विस जोड़े पर हमला, विदेश मंत्री ने मांगी रिपोर्ट

 

Loading...
loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *