क्या आपके बच्चे का भी पढ़ाई में मन नहीं लगता, पढ़ें पूरी खबर

सभी माता-पिता यही सोचते हैं कि उसका बच्चा मन लगा कर पढ़ाई करें। हर मां-बाप अपने बच्चे की अच्छी शिक्ष और अच्छे भविष्य के लिए सोचते रहते हैं। उनकी अच्छी शिक्षा के लिए हर तरह का त्याग करने को तैयार रहते हैं।

माता-पिता

कुछ बच्चे सरलता से शिक्षा पूर्ण कर लेते हैं लेकिन कुछ बच्चों को मेहनत के बाद भी अच्छी शिक्षा नहीं मिल पाती उन्हें बाधाओं का सामना करना पड़ता है। ऐसा बच्चे की जन्मपत्री मे ग्रह-योग के कारण हो सकता है।

जैसे अगर बच्चे की जन्मपत्री मे पंचम भाव उसकी शिक्षा, ज्ञान व उसकी सवाल याद करने की क्षमता का निर्धारण करता है। पंचम भाव का स्वामी गृह पंचमेश निर्बल, दुष्ट ग्रहों से पीडि़त, या पंचमेश पंचम भाव से अष्टम अर्थात लग्न से द्वादश भाव में या अस्त हो या नीच राशि में हो, तो बच्चे को एग्जाम के दिनों मे परेशानी व शिक्षा प्राप्ति में रुकावटें आती हैं। ऐसे में वह चाहकर भी पढाई की तरफ ध्यान नहीं लगा पाता है। एग्जाम मे वह अपने याद करे सवाल भी भूल जाता है। आइए जानते है इनको दूर करने के उपाय

ये उपाय लाएंगे बदलाव

अनेक बार घर का वास्तु या पढाई की जगह का वास्तु या नेगेटिव किरणे भी बच्चे को पढाई / एकाग्रता मे परेशान करती है। उसके लिए बच्चे को रुद्राक्ष माला धारण करवा दे। ज्ञान की देवी माता सरस्वती की फोटो बच्चो के पढाई स्थान पर लगा दें, व उनकी पुस्तक मे मोर पंख रखे।

जन्मपत्री मे पंचमेश शुभ, परन्तु निर्बल है तो उससे सम्बंधित गृह का रत्न धारण करवा कर उसकी शक्ति बढ़ाए। यदि पंचमेश नीच का है तो उससे सम्बंधित खाने की वस्तु मंदिर मे दान दे।

Loading...
loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *