सावधान! देखिए कहीं आप भी मिठाई के नाम पर जहर तो नहीं खा रहे

जौनपुर। उमंग व उल्लास से भले दीवाली के उत्सव पर मिठाई की खासी महता होती है। पूजन पर मिठाई, मेहमान को मिठाई, उपहार में मिठाई। कुल मिलाकर मिठाई के बिना उत्सव फीका रहता है। उत्सव के दौरान यदि आप किसी के घर जाए, वो आपसे कहे कि कुछ मीठा हो जाए, तो संभल जाये।

आपके सामने आई मिठाई यदि ज्यादा चमकीली हो या गहरे रंग की है, तो उसे ना खाए। वह मिठाई आपके सेहत के लिए हानिकारक हो सकती है। मिठाइयों में मिलावटी खोये के साथ ही केमिकल रंगों का प्रयोग किया जा रहा है। त्योहार पर बाजार में मिठाई की खपत अधिक होने के चलते मिलावटखोर भी सक्रिय हो गए हैं।

दिवाली

मिलावटखोरों के साथ नहीं हो रही कार्रवाई

सरकारी मशीनरी इन मिलावटखोरों के खिलाफ कार्रवाई करने के नाम पर हीलाहवाली करती नजर आ रही  है। अन्य जिलों में जहां ताबड़तोड़ छापेमारी हो रही है यहां ऐसा नहीं हो रहा है। मिठाइयों में खाद्य रंगों का प्रयोग किया जाता है।

इन रंगों से बनी मिठाइयों को खाने से स्वास्थ्य पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। वहीं मिलावटखोर खाद्य रंगों के बदले केमिकल युक्त रंग का प्रयोग कर रहे है। ये रंग सेहत के लिए काफी नुकसानदायक होते हैं। केमिकलयुक्त रंगों से बनी मिठाई ज्यादा चमकीली होती है।

साथ ही मिठाई का रंग ज्यादा गहरा होता है। केमिकलयुक्त रंगों के सेवन से चर्म रोग, श्वास व पेट संबंधी बीमारियां हो जाती हैं। वहीं कुछ केमिकलयुक्त रंगों के सेवन से कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी हो जाती है।

Also Read: ‘ऐ सत्ता की भूख सब्र कर’… से शुरू हुआ स्मृति का राहुल को जवाब, अंत आप खुद पढ़ लीजिए

Also Read: खतरनाक साबित हो सकता है इन ब्यूटी प्रोडक्ट्स का लंबे समय तक इस्तेमाल

Loading...
loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *